अलवर की घटना प्रियंका गांधी के पाखण्ड को बेनकाब करती हैः नेहा बग्गा


खबर नेशन / Khabar Nation
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश प्रवक्ता सुश्री नेहा बग्गा ने कहा कि एक तरफ कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा कहती है ‘‘लड़की हूँ लड़ सकती हूँ’’ लेकिन दूसरी तरफ उनकी पार्टी के शासन वाले राजस्थान में एक मुकबधिर नाबालिक के साथ हैवानियत हो जाती है और शासन, प्रशासन चुप्पी साधे रहता है। राजस्थान के अलवर में हुआ निर्भया कांड उत्तर प्रदेश के चुनाव में महिला सशक्तिकरण की बात करने वाली प्रियंका गांधी के पाखण्ड को बेनकाब करती है। सुश्री बग्गा ने कहा कि प्रियंका गांधी सिर्फ तुष्टीकरण और सत्ता पाने के लिए लडकी हूं, लड सकती हूं का नारा देती है।
सुश्री नेहा बग्गा ने कहा कि कांग्रेस की कथनी और करनी में कितना अंतर है वह इस बात से स्पष्ट है कि प्रियंका गांधी चुनाव आते ही महिला सशक्तिकरण की बातें करती है, लेकिन उनकी पार्टी की सरकार राजस्थान विधानसभा में राज्य में बढते अपराधों पर जो जवाब देते है उन पर सामाजिक महिला संगठन भी ऐतराज जताते हैं। वहीं मध्यप्रदेश में कांग्रेस विधायक के पुत्र करण मोरवाल यूथ कांग्रेस की पदाधिकारी का शोषण करते है। और उन्हीं के पार्टी के वरिष्ठ नेता, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह महिला को टंच माल कहते है। तब भी प्रियंका गांधी यह नहीं बोल पायी कि लडकी हूं, लड सकती हूं।
उन्होंने कहा कि महिलाओं को अपमानित करने वालों में कांग्रेस नेताओं के नामों की श्रृंखला लंबी है। कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ अपनी ही पार्टी की महिला कार्यकर्ताओं को सजावटी वस्तु बताते है, तो कभी ‘आयटम’ कहकर संबोधित करते है। कांग्रेस नेता राजा पटेरिया एक कदम और आगे बढकर यहां तक कह देते है कि अपनी बहू बेटियों को ले आओ और राहुल गांधी को पंसद आयी तो राहुल गांधी निर्णय लेंगे। कांग्रेस नेताओं की इस प्रकार की सोच कांग्रेस के मूल चरित्र को दर्शाती है। सुश्री बग्गा ने कहा कि सही मायने में हमारे समाज की लडकियां राष्ट्रपुत्रियां है जो देश के लिए काम कर रही है न की प्रियंका गांधी की तरह जो तुष्टीकरण के लिए नारा देती है।

Share:

Next

अलवर की घटना प्रियंका गांधी के पाखण्ड को बेनकाब करती हैः नेहा बग्गा


Related Articles


Leave a Comment