भाजपा ने जन्माष्टमी के दिन श्रृद्धेय कुशाभाऊजी ठाकरे की 98वीं जंयती मनाई

राजनीति Aug 13, 2020

कुशाभाऊजी ठाकरे नैतिकता, आदर्श व सिद्धांतों के प्रकाश स्तंभ थे.... कैलाश विजयवर्गीय  
ठाकरेजी के द्वारा तैयार किए गये कई कार्यकर्ता आज भी पार्टी का कार्य सफलतापूर्वक कर रहे है..... कृष्णमुरारी मोघे
ठाकरेजी राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद भी कार्यकर्ताओं की चिंता करने के साथ ही सभी को पहचानते थे और नाम से बुलाते थे...... शंकर लालवानी
श्रृद्धेय ठाकरेजी जीवन पर्यंत संगठन के लिए कार्य करते रहें..... गौरव रणदिवे
इंदौर,
भारतीय जनता पार्टी नगर अध्यक्ष गौरव रणदिवे, नगर महामंत्री मुकेशसिंह राजावत, गणेश गोयल, घनश्याम शेर ने बताया कि आज भाजपा के पितृ पुरूष, कुशल संगठक श्रद्धेय कुशाभाऊ ठाकरे की 98वीं जयंती, जन्माष्टमी पर वी.आई.पी रोड़ शांतिपथ स्थित प्रतिमा पर पूर्व लोकसभा अध्यक्ष  श्रीमती सुमित्रा महाजन,  राष्ट्रीय महासचिव श्री कैलाश विजयवर्गीय,  पूर्व सांसद, वरिष्ठ नेता श्री कृष्णमुरारी मोघे,  सांसद श्री शंकर लालवानी,  नगर अध्यक्ष  गौरव रणदिवे, प्रदेश उपाध्यक्ष  सुदर्शन गुप्ता, विधायक  रमेश मेंदोला,  महेंद्र हार्डिया,  आकाश विजयवर्गीय,  प्रदेश प्रवक्ता  उमेश शर्मा, मुकेशसिंह राजावत, गणेश गोयल, घनश्याम शेर, कमल बाघेला, जयंत भिसे, जयदीप जैन, अभिषेक बबलू शर्मा, नानूराम कुमावत, हरप्रीतसिंह बक्षी, देवकीनंदन तिवारी, मुकेश मंगल, मनस्वी पाटीदार, विजय मालानी, ललित पोरवाल, शैलजा मिश्रा, ज्योति तोमर, दीपिका नाचन, कमलेश नाचन, अमरदीप सिंह मौर्य, शैलेश ठाकरे, अश्विनी शुक्ला, राजेश शिरोड़कर, निरंजनसिंह चौहान, दिनेश शुक्ला, कृष्णकांत रोकड़े, नौशाद मंसूरी, कपिल शर्मा, गजेंद्र गावडे, महेश चौधरी, गगन यादव आदि भाजपा नेताओं व कार्यकर्ताओं ने माल्यार्पण कर उन्हें याद किया। इस अवसर पर  ने राष्ट्रीय महासचिव  श्री कैलाश विजयवर्गीय  ने कहा कि  हम  वह सौभाग्यशाली  कार्यकर्ता हैं, जिन्होंने  श्री ठाकरेजी के साथ कार्य किया।  आपने  उनसे जुड़े कई संस्मरण भी सुनाएं।  आपने कहा कि  श्रद्धेय ठाकरेजी  राष्ट्रीय अध्यक्ष होने के बाद भी  छोटे से छोटे कार्यकर्ता की चिंता करते थे, कार्यकर्ताओं के प्रति  संवेदनशील  नेता थे।आपने कहा कि श्री कुशाभाऊ ठाकरे नैतिकता, आदर्श व सिद्धांतों के प्रकाश स्तंभ थे। वे निष्काम कर्मयोगी थे। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी की बुनियाद को मजबूत बनाने में उनका योगदान अमूल्य है। वे जीवनपर्यंत बेदाग रहे। श्री ठाकरे भाजपा के उन नेताओं में से थे, जिन्होंने साइकिल चलाकर और चने खाकर पार्टी का काम किया। यही कारण है कि पार्टी में उनका व्यापक प्रभाव था। 1942 में संघ का प्रचारक बनने के बाद उन्होंने मध्यप्रदेश के कोने-कोने में निष्ठावान स्वयंसेवकों की सेना खड़ी की। वे कुशल संगठनकर्ता थे। श्री कुशाभाऊ ठाकरे ने संघ में काम की शुरुआत उस समय की थी, जब इस संगठन का विस्तार व्यापक नहीं था। सच तो यह है कि किसी विचारधारा और लक्ष्य के प्रति उनके समान निष्ठा विरले लोगों में देखी जाती है। पूर्व सांसद वरिष्ठ नेता  श्री कृष्णमुरारी मोघे  ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के पितृ पुरूष, कुशल संगठक श्रद्धेय कुशाभाऊ ठाकरेजी अभूतपूर्व प्रतिभा के धनी थे। उनकी कार्यशैली, साथ ही उनकी सुचिता व सरलता भी अदभुत थी। ठाकरेजी के द्वारा तैयार किये गये कई कार्यकर्ता आज भी पार्टी का कार्य सफलतापूर्वक कर रहे है। भारतीय जनता पार्टी संगठन के प्रारंभ को जिस तरीके से श्री ठाकरेजी ने कढा़ संघर्ष करके खडा़ किया था, उसी का परिणाम है कि आज हम सब भारतीय जनता पार्टी को इस मुकाम पर देख रहे है। सांसद  श्री शंकर लालवानी ने  कहा कि  श्रद्धेय कुशाभाऊ ठाकरे  ऐसे  नेता थे,  जो एक-एक कार्यकर्ता की  चिंता करके  उन्हें  जानते थे  और  नाम से बुलाते थे। श्री ठाकरेजी के द्वारा संगठन के विस्तार के लिए उठाए गए  कदमों पर चलकर भाजपा का कार्यकर्ता एक सफल राजनीतिक कार्यकर्ता बना है। भारतीय जनता पार्टी उनके त्याग व तपस्या को कभी भुला नहीं सकती । राष्ट्र के प्रति उनका समर्पण अटूट था। नगर अध्यक्ष  श्री गौरव रणदिवे ने श्रद्धेय ठाकरेजी  को नमन करते हुए कहा कि श्री ठाकरेजी का मानना था कि किसी राजनैतिक संगठन का उद्देश्य समाज के हर वर्ग की सुख-समृद्धि सुनिश्चित करना है।  वे जीवन पर्यंत संगठन के लिए कार्य करते रहे। कार्यकर्ताओं से उनका संबंध अटूट था। वे हमेशा कहते थे, हमारी ताकत हमारे कार्यकर्ता हैं। कार्यकर्ताओं ने "कुशाभाऊ ठाकरे अमर रहें" एवं "भारत माता की जय" के नारे भी लगाये। कार्यक्रम का संचालन नगर उपाध्यक्ष कमल बाघेला ने किया एवं अंत में सभी का आभार नगर उपाध्यक्ष हरप्रीतसिंह बक्शी ने माना।

Share:


Related Articles


Leave a Comment