2 अगस्त को प्रदेश में 10 हजार किसान चौपाले लगेगी

राजनीति Jul 18, 2018


खबरनेशन/Khabarnation
                भोपाल। भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष रणवीर सिंह रावत ने बताया कि 2 अगस्त को प्रदेश के 200 विधानसभा क्षेत्रों में 10 हजार चैपाले लगेगी। इन चैपालों पर प्रदेश के किसान हितेषी मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान की किसानों के नाम अपील का वीडियो प्रदर्शित किया जायेगा। इसके बाद केंद्र व राज्य शासन की किसान हितैषी योजनाओं पर आधारित किसान चालीसा किसानों को सुनवाई जायेगी। किसान चैपाल में मुख्यमंत्री  शिवराजसिंह चौहान की किसानों के नाम पाती और किसानों के लिये उनसे संबंधित विभागों द्वारा लिये गये निर्णयों की एक पुस्तिका भी किसानों को वितरित की जायेगी।

                मुख्यमंत्री अन्नदाता बंधुओं से उन्हें मिल रही सुविधाओं के बारे में सुझाव आमंत्रित करेंगे। किसान बंधुओं से प्राप्त सुझाव भारतीय जनता पार्टी के चुनाव घोषणा पत्र में शामिल किए जायेंगे, साथ ही किसानी को अधिक लाभकारी बनाने के लिए अभिनव कार्यक्रम का प्रस्ताव आने पर सुझाव पर अगली सरकार बेरोकटोक अमल करेगी। 2 अगस्त को लगने वाली 10 हजार चैपालों में पार्टी एवं मोर्चा के पदाधिकारी, जनप्रतिनिधि चैपाल पर पहंुचेंगे और केन्द्र और राज्य सरकार की योजनाओं, उपलब्धियों से किसानों को रूबरू करायेंगे। हर विधानसभा क्षेत्र में न्यूनतम 50 किसान चौपाले आयोजित करने का लक्ष्य है।

                श्री रावत ने बताया कि 11 जुलाई को प्रदेश की 200 विधानसभाओं में 2,142 किसान चैपाल कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया था जिसमें लगभग 2,28,758 किसान सम्मिलित हुए थे। श्री रावत ने बताया कि किसान चैपाल के दौरान किसानों ने माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा खरीफ फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य लागत का डेढ़ गुना करने पर हर्ष व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री के प्रति आभार व्यक्त किया। किसानों ने माननीय मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान द्वारा गत वर्ष के गेहूँ और धान की बिक्री पर 200 रुपये प्रति क्ंिवटल और इस वर्ष गेहूँ बिक्री पर 265 रुपये प्रति क्विंटल तथा चना, मसूर और सरसों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदी करने और 100 रुपये प्रति क्विंटल की अतिरिक्त राशि देने पर आभार व्यक्त किया।

                श्री रावत ने बताया कि किसान चैपाल पर किसानों के नाम पर अपना राजनैतिक एजेंडा पूरा करने वाले किसान संगठनों और किसानों के नाम पर राजनैतिक रोटियाँ सेंकने वाली कांग्रेस के एजेंडे को भी उजागर कर किसानों को सच्चाई से अवगत कराया।

 

Share:


Related Articles


Leave a Comment